Tuesday, November 21, 2017

RMP Doctors protest in Sirsa against Govt Action

RMP Doctors protest in Sirsa against Govt Action
SIRSA NEWS 
21 November, 2017
Pictures and Videos: GS Mann, Amar S Jyani, Vikram Bhatia, Mukhtiar Singh Happy, Surender Sawant, Vikas Taneja
Watch Video: Registered Medical Practitioners Protest

In Hindi अनुभवी चिकित्सा सेवा संगठन हरियाणा के बैनर तले मंगलवार को आरएमपी डॉक्टरों की ओर से प्रदेशभर में विरोध प्रदर्शन किया गया। इसी कडी में सिरसा में जिलाभर के आरएमपी डॉक्टर श्री युवक साहित्य सदन में एकत्रित हुए और प्रदेशाध्यक्ष एलसी शर्मा के नेतृत्व में शहर के विभिन्न बाजारों में सरकार व प्रशासन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करते हुए उपायुक्त कार्यालय पहुंचे और मुख्यमंत्री के नाम एसडीएम को ज्ञापन सौंपा।

देश के उन क्षेत्रों में आरएमपी डॉक्टर इलाज मुहैया करवा रहे है, जहां सरकार के डॉक्टर या बडे स्तर के डॉक्टर नहीं पहुंच पाते। लेकिन वर्ष 1973 से प्रदेशभर में सरकार की ओर से रजिस्ट्रेशन बंद किए हुए है, ऐसे में आरएमपी डॉक्टरों पर सीएम फ्लाईंग की कार्रवाई उचित नहीं है। उन्होंने  कहा कि अगर सरकार ने अपनी इस नाजायज कार्रवाई को तुरंत प्रभाव से बंद नहीं किया, तो आरएमपी डॉक्टर का आंदोलन उग्र रूप लेगा। 

Interview -एलसी शर्मा, प्रदेशाध्यक्ष, अनुभवी चिकित्सा सेवा संगठन हरियाणा।

Monday, November 20, 2017

ANGER - A CURSE FOR BODY AND SOUL - Dr TN Chugh


“ANGER” - A CURSE FOR BODY AND SOUL - Dr TN Chugh
SIRSA NEWS 
20 November, 2017
Pictures and Videos: GS Mann, Amar Singh Jyani, Surender Sawant, Mukhtiar Singh Happy, Vikram Bhatia
“ANGER” - A CURSE FOR BODY AND SOUL
Anger is stimulated, psychic situation during which a person looses the physical, mental and spiritual balance. The regular extension in its status causes increase in terrible obsession (embroilment) which creates a helpless state of repentance. Many religious literatures have treated anger as a bunch of ideas which creates exponential negative influence on individual and society along with greed, lust, attachment, ego mind and wealth. Generally, with the support of pride and arrogance, the angry person realizes the distress on the self prestige and reputation. If the resentment gets over intense, then the sense of anger acts as a fuel. Such thoughts avoid the conciliation and agreement (treaty) because the personal stubbornness over powers. One may not feel ashamed and cowardice.
Possible causes of Anger:
1. A terrific blow on egoism.
2. Wounding (knocking) of self respect.
3. When a person wishes to stress upon ill decisions on people.
4. The person insists upon stubbornness for self respect.
5. When a person of younger age group or sub-ordinates in the office\business refuses to follow the seniors.
6. When a person desires to interfere in the working of others or blames without purpose or intention.
7. When a person tries to create obstacles in various deeds.
8. A person feels enraged and irritated with friends or family members or relatives due to failures in progress.
9. If someone conveys a damaging humor.
10. When a mischievous element tends to claim ones right without any affair.
11. The anger, generally, becomes manifested on the sub-ordinates, weaker section and young ones.
12. The indecent, ignorant, innocent and foulest state of children.
13. Sometimes, the barbed remarks in the domestic affairs between husband and wife acquires fury and brings harsh situations. In India, males try to dominate.
14. The state of disability, neglect, forgetful nature, exertion of soft-will etc. in aged persons.
15. Sometimes, slight displeasure in the family may lead to much affliction and quarrel. Certain relatives keep on locating the opportunity of anguish.
16. The occurrence of anger in the sacred relations of bride with honorable members of in-laws create bitterness.
17. Abusive language, disgraceful wordings, clumsy behavior etc. suddenly creates resentment.
18. The situation of overpowered anger arises due to wicked actions against elderly relatives, religion, motherland and spiritual guide.
19. Bad habits of theft, intoxications, losses in gambling, deceitful actions etc. become the cause of rage.
20. Sometimes, the repeated state of anger becomes an evil habit.
21. The people watching a person for a prolonged period of angriness can create resentment.
22. If a person becomes subjected punishment, without any error or inaccuracy, may repent upon the weakness, poverty or authority.
23. When a person is treated with indifferences instead of getting encouragement, even on getting success in a task through hard work.
24. Failures in the urge for seeking love and affection through relations.
25. When a person feels envious on the progress of neighbors, relatives and so called friends.
26. Problems among brothers and sisters during partition of ancestral properties.
Harmful Effects of Anger:
1.         People, generally, remain unaware, ignorant and careless about damages and consequences of anger.
2.        Person enraged with resentment looses the righteous qualities of consciousness, understanding, self control, rationality and even the noble qualities of humanity. He or she acquires brutality.
3.        Forget about the true regards to the elders.
4.        Leads to sudden increase in blood pressure which sometimes may prove to be fatal.
5.        The enraged person may commit the crime of violence and has to repent upon its ill effect.
6.        The person already suffering with the problem of low blood pressure starts trembling due to anger which may lead to a state of depression.
7.         It may cause anguish and distress in the family.
8.        Cause disputes and discord with neighbors.
9.        Take a quarrel upon oneself with friends.
10.      Cause ill effects on digestion of food.
11.       Loose piece of mind and remain disturbed.
12.      Chances of road accidents increase due to imbalanced mind.
13.      Loss of concentration in studies, business and even meditation.
14.      Shifting of thoughts towards perception of reprisal and retaliation.
15.      The aspects of progress and prosperity gets disturbed.
16.      The people feel that the angry person is not trustworthy and thus fail to achieve the deserved status in the society.
17.       There is misuse of 43-muscles during the state of anger, whereas, only 17-lump of muscles are utilized during smiling.
18.      The enraged person faces loss of energy by nine times.
19.      The audio-visual senses get diminished but the activity of speech gets enhanced.
20.      The person with anger may have to bear the consequences of error from others.
21.      The thoughts may become deep like ocean but the impatience abrupt like fire.
22.      Anger starts with stupidity but gets finished with regret and repentance.
23.      The conversation continued with anger overturns to upset the situations.
24.      The situation of angerness for one hour causes more fatigue as compared to normal working for 24 hours.
25.      About 8-drops of blood get damaged with an angry situation which takes 5-days for its recovery.

SAFE MEASURES TO AVOID ANGER:   
Try to maintain self control, humility, submissiveness, compassion, nobility, serenity and modesty in mind. The conditions to realize the values of natural morality and reverence of Almighty Lord become capable to save us from this curse.
1.         We should realize and be careful that anger is a demon like action that tends to keep us away from noble principles of humanity.
2.        Try to analyze the causes of anger. We should continue efforts to depart from the site of resentment.
3.        One may take cold water to acquire calmness.
4.        Do not repeat bad actions and harsh versions.
5.        Try to adopt peace of mind and words.
6.        Close your eyes for prayers and meditation on God words.
7.         Affirm self control on egoistic behavior.
8.        Do not acquire distress on the shameful or humiliating wordings used by someone.
9.        Try to promote attitude of tolerance and bearing.
10.      Instead of monitory benefits, develop emotional perceptions of voluntary social service for humanity.
11.       The concept of forgiveness and pardon can resolve many problems of revenge due to anger.
12.      Give priority precedence to others instead of snatching the self prevalence.
13.      Try to acknowledge that you do not continue to stick on obstinacy to empower your concepts.
14.      Do not exhibit the arrogance of your higher status in finance, politics or society.
15.      Adopt simplicity, humility, honesty and un-adorned character.
16.      Try to understand others. Express your intellectual opinions in soft language. Always work with restrain and modesty.
17.       Do not reply in indecent manner even to improper words in wretched situations.
18.      If you get a chance to mediate upon the disputes among certain persons, neither favor any section nor become enraged.
19.      Try to escape and overshadow the situation of resentment quickly.
20.      Three actions are important to overcome and finish angriness—Sorry, Thanks and Forgiveness.
Almighty Lord is the sole creator and defender in this universe. Human beings try to project their pretence, ostentations, vanity and arrogance. The state of anger, sometimes, enchants great philosophers, even the prophets; ascetics and gods do not remain untouched. They used to confer this curse during certain situations which could even prove to be damaging their religious devotion. So much so that certain religious literatures reveal that Lord Shiva had frenzied dancing taking place at the dissolution of the world.
Therefore, it is concluded that the wicked stage of rage or resentment is a mental  disorder, physical agitation of mind and spiritual curse which should be subjected to prevention and treatment for the well being  of self, society and humanity.
Contributed by: Dr. Triloki Nath Chugh. H.E.S.-I Retired.        

The writer is an eminent former Professor of Zoology; he has more than 3 decades of teaching experience in various colleges of KUK He can be reached on his Mobile No:+91-94160 48789 and email: trilokichugh@gmail.com . Dr Chugh has published many Zoology research papers; Guided several M.Phil students for research; M.Sc. Secured 2nd Position BITS PILANI 1968; Gold Medalist in French Diploma 1981 KUK; Prinicipal at SSS Boys College for 7 years. The views expressed in the article are exclusive to Dr TN Chugh.

Wednesday, November 15, 2017

Savvi Virk debutant Punjabi singer at Media Center Sirsa

Savvi Virk debutant Punjabi singer at Media Center Sirsa.
SIRSA NEWS 
15 November, 2017
Pictures and Videos: GS Mann, Amar Singh Jyani, Surender Sawant
Watch Video: Savvy Virk debutante Punjabi Singer at Media Center Sirsa.
Releases poster of His Maiden Punjabi song AKHROT, the song is also penned by Savvy Virk (aka Sawinder), Music and Recording Atul Sharma. Savvy while interacting with media told that its high time that Punjabi songs return to their original cultural form. The practice of adding Vulgarity and Promoting Drugs Guns Big Cars are doing no good to anyone. He was accompanied with his brothers and friends. Savvy comes from Kariwala, a remote village of Sirsa, but his zeal for Good Punjabi lyrics and singing song on good lyrics with folklore MELA setting has brought him this far. He is very optimistic about his future productions.

Wednesday, November 08, 2017

National College Athletic Meet and Science Exhibition

National College Athletic Meet and Science Exhibition
SIRSA NEWS 
08 November, 2017
Pictures and Videos: GS Mann, Amar Singh Jyani, Surender Sawant
Watch Video: National College Athletic Meet and Science Exhibition.

The Inter-College Science Exhibition & Intra-College Athletic meet was held on 7th November 2017 at Govt National PG College Sirsa.
This Video was recorded on 7th November.

Saturday, November 04, 2017

Nagar Kirtan in Sirsa on Eve of Gurpurab Sri Guru Nanak Dev

Nagar Kirtan in Sirsa on Eve of Gurpurab Sri Guru Nanak Dev
SIRSA NEWS 
04 November, 2017
Pictures and Videos: GS Mann, Amar Singh Jyani, Surender Sawant, Mukhtiar Singh Happy, Vikram Bhatia
Watch Video: Nagar Kirtan in Sirsa on Eve of Gurpurab Sri Guru Nanak Dev
Nagar Kirtan on Eve of Gurpurab Guru Nanak Dev ji Sirsa (3rd November 2017).
सिरसा में गुरु पर्व के अवसर पर निकला नगर कीर्तन
गुरुद्वारा चिल्ला साहब से शुरू हुआ नगर कीर्तन।
गतके का खेल रहा मुख्य आकृषण
जगह जगह हुआ नगर कीर्तन का स्वागत
शहर के विभिन्न बाजारों से गुजरा नगर कीर्तन।

:गुरु नानक देव जी के  प्रकाशोत्सव के अवसर पर आज यहां गुरु ग्रंथ साहिब की भव्य शोभायात्रा निकाली गई। शोभायात्रा में काफी संख्या में महिलाएं, पुरुष और बच्चे शामिल थे।  शोभा यात्रा गुरुद्वारा  चिला साहिब से प्रारम्भ हुई और मुख्य बाजारों से होते हुए यहीं पर सम्पन्न हुई। शोभायात्रा के लिए विशेष रूप से शहर में स्वागत द्वार बनाए गए थे। पवित्र श्री गुरु ग्रंथ साहिब को पुष्पों से सुसज्जित वाहन पर  रखा गया था।  इसके आगे पूर्ण गणवेश में पंज प्यारे चल रहे थे।  सिख युवाओं द्वारा गतका खेला गया और शानदार करतब दिखाए गए। युवाओं का गतका कौशल देखते ही बनता था। सिख महिलाओं द्वारा शोभा यात्रा के आगे-आगे चलते हुए सफाई की जा रही थी। यात्रा में शामिल जत्थों द्वारा शब्द गायन व गुरबाणी का मनमोहक कीर्तन किया जा रहा था।

इस अवसर पर सिख धार्मिक श्रदालुओं  ने कहा कि यह पर्व सभी धर्मो के एकता का प्रतीक हे। उन्होंने कहा कि आज हम सब को यह सन्देश मिलता हे कि हर मनुषय को अपनी मेहनत की  कमाई करनी चाहिय।  सब को मिल कर रहना चाहिए।  यही गुरु का सन्देश हे उन्होंने बताया कि आज के युग में गुरु नानक देव जी की शिक्षा प्रासंगिक  है।
बाइट -श्रदालु, जसप्रीत सिंह ।

Thursday, November 02, 2017

CDLU Youth Festival Inauguration Day by Prof Ganeshi Lal

CDLU Youth Festival Inauguration Day by Prof Ganeshi Lal
SIRSA NEWS 
02 November, 2017
Pictures and Videos: GS Mann, Amar Singh Jyani, Surender Sawant
Watch Video: CDLU Youth Festival Inauguration Day by Prof Ganeshi Lal.
Prof Ganeshi Lal Inaugurates CDLU Youth Festival on 2nd November 2017 being held at CDLU Multipurpose Hall and Auditorium. 
HINDI: 02 नवंबर। सांस्कृतिक कार्यक्रमों में भाग लेने से युवाओं के सम्पूर्ण व्यक्तित्व का विकास होता है। युवा शक्ति को दिशा देने में शैक्षणिक संस्थानों एवं युवा महोत्सवों का अहम योगदान होता है। भारत के अन्दर विश्व के सबसे अधिक युवा हैं और यहां के युवाओं का डंका विश्वभर में बोलता है। सांस्कृतिक कार्यक्रमों के माध्यम से प्रभावी तरीके से सामाजिक संदेश जन-जन तक पहुंचाये जा सकते हैं। ये उद्गार हरियाणा सरकार के पूर्व मंत्री प्रो0 गणेशी लाल ने चौधरी देवीलाल विश्वविद्यालय सिरसा के बहुउदेश्यीय हॉल में युवा महोत्सव 2017 विधिवत उद्घाटन करने के उपरान्त व्यक्त किये। बतौर मुख्यअतिथि बोलते हुए प्रो0 गणेशीलाल ने कहा कि इस महोत्सव का उद्घाटन करने में उन्हें अत्यंत खुशी हो रही है और युवाओं के बीच में वो भी अपने आप को युवा महसूस करते हैं। इस प्रकार के कार्यक्रम युवा शक्ति को दिशा देने में काफी कारगर साबित होते हैं। उन्होंने कहा कि युवाओं को अपनी ऊर्जा समाजहित व राष्ट्रीय निर्माण में लगानी चाहिए। इस उदघाटनीय सत्र की अध्यक्षता करते हुए विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 विजय कायत ने कहा कि चौधरी देवीलाल विश्वविद्यालय सिरसा शिक्षा और खेलों के क्षेत्र में तो नये आयाम स्थापित कर ही रहा है साथ की साथ प्रदेश की संस्कृति के प्रचार प्रसार में भी अपनी महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर रहा है। सवर्णिम हरियाणा थीम पर आधारित इस युवा महोत्सव के माध्यम से हरियाणा के विकास की झांकी को भी प्रतिभागियों द्वारा दर्शाया जायेगा। उन्होंने कहा कि इस युवा महोत्सव की विभिन्न विधाओं में विश्वविद्यालय तथा इससे संबंधित महाविद्यालयों की टीमें तीन दिन तक विभिन्न सांस्कृतिक गतिविधियों में अपनी प्रतिभाओं का जौहर दिखायेंगी। यहां तक पहुंचने में प्रतिभागियों ने काफी अरसे से कठोर परिश्रम व अनुशासन में रहकर अनेक प्रकार के कौशल विकसित किये हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षा के साथ-साथ जो विद्यार्थी अन्य सांस्कृतिक गतिविधियों में बढ़चढ़ कर भाग लेने वाले विद्यार्थी जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में कामयाब होते हैं। इस प्रकार के महोत्सवों से युवा शक्ति को सही दिशा मिलती है और प्रबन्धकीय दक्षता विकसित होती है। भारत के अन्दर विविधता में एकता है और भारतीय संस्कृति विश्व की सर्वश्रेष्ठ संस्कृति है। उन्होंने अनेक एतिहासिक उदाहरण देकर भारतीय संस्कृति के विभिन्न पहलुओं पर प्रकाश डाला। इससे पूर्व विश्वविद्यालय के कुलसचिव प्रो0 असीम मिगलानी ने कहा कि युवा महोत्सव के माध्यम से युवाओं में एक नई ऊर्जा का संचार होता है। उन्होंने कहा कि महोत्सव में भाग लेने वाले युवा की हौंसला अफजाई में श्रोता भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। श्रोताओं की तालियों से प्रतिभागियों की होसला अफजाई होती है इसलिए दर्शकों को कर्तल ध्वनी में कंजुसी नहीं बरतनी चाहिए। छीपी हुई प्रतिभाओं को ढुंढने में भी इस प्रकार के कार्यक्रम महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। युवा महोत्सव के माध्यम से सामाजिक जागरूकता फैलाने का कार्य भी किया जाता है। युवा कल्याण निदेशालय के निदेशक डा0 मोहम्मद कासिफ किदवई ने मुख्य अतिथि व मेहमानों का स्वागत किया जबकि छात्र कल्याण अधिष्ठाता प्रो0 दिलबाग सिंह ने धन्यवाद किया। मंच का संचालन प्राध्यापिका डा0 मंजु नेहरा व डा0 गीतु द्वारा सफलता पूर्वक किया गया। मुख्यअतिथि को साल व स्मृतिचिन्ह भेंट करके सम्मानित किया गया। इस अवसर पर प्रो0 सुरेश गहलावत, प्रो0 विक्रम सिंह, प्रो0 राजबीर दलाल, प्रो0 राजकुमार सिवाच, प्रवीण आगमकर, प्रो0 दीप्ति धर्माणी, कुलपति की धर्मपत्नी डा0 निर्मला कायत, प्रो0 उमेद सिंह, विजय तौमर आदि उपस्थित थे।

Tuesday, October 31, 2017

Petrol Pump Looted at Panjuana

Petrol Pump Looted at Panjuana
SIRSA NEWS 
31 October, 2017
Pictures and Videos: GS Mann, Amar Singh Jyani, Surender Sawant
Watch Video: Petrol Pump Looted at Panjuana on night between 30th & 31st October 2017 by masked robbers who came in Maruti Suzuki Ciaz Car.

Saturday, October 28, 2017

CMK National PG Girls College International Seminar on Importance of Mother Tongue

 
CMK National PG Girls College International Seminar on Importance of Mother Tongue in learning and imparting education.
SIRSA NEWS 
28 October, 2017
Pictures and Videos: GS Mann, Amar Singh Jyani, Surender Sawant
Watch Video: CMK National PG Girls College International Seminar on Importance of Mother Tongue, held on 27th October.
The International Interdisciplinary Seminar was sponsored by DHE and was organized in collaboration with Vishva Hindi Sahitya Parishad, New Delhi.
Prof Vijay Kumar Kayat, Vice Chancellor CDLU was the chief guest at the Inaugural session, while Dr Munish Nagpal ADC Sirsa presided over the valedictory session. Harish Naval, Ashish Kandhave, Raj Heeramun, Writers and Poets of international fame addressed the seminar apart from many participating delegates. Dr Vijay Tomar and Sh. Arvind Bansal president SES along with other members of SES welcomed the chief guest.
सिरसा- मातृभाषा पर हुआ मंथन।
- सीएमके महिला महाविद्यालय में आयोजित हुआ सेमिनार।
-'राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय ज्ञानार्जन का सेतु- मातृभाषा' विषयक सेमिनार का आयोजन।
-ख्याति प्राप्त हिंदी विशेषज्ञ राज हीरामन (मॉरीशस), डॉ. आशीष कंधवे व डॉ. हरीश नवल हुए शामिल।
- सीडीएलयू के वीसी प्रो.विजय कायत ने किया शुभारंभ।
-सीएमके कॉलेज की प्राचार्य डॉ. विजया तोमर के संबोधन से हुआ सेमिनार का आगाज़।
- भारत ने माँ को माँ कहने में देर कर दी- राज हीरामन
-हिंदी और गांधी को निकाल दें तो भारत खाली।
-मॉरीशस ऐसा देश जो तीसरी बार विश्व हिंदी कॉन्फ्रेंस आयोजित कर रहा- हीरामन।
-सिरसा के सीएमके कन्या महाविद्यालय में आज एक अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन किया गया। उच्चतर शिक्षा विभाग के महा निदेशक द्वारा प्रायोजित इस अंतरास्ट्रीय सेमीनार में देश विदेश से ख्याति प्राप्त हिंदी भाषा के विशेषज्ञ पहुंचे। राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय ज्ञानार्जन का सेतु- मातृभाषा' विषय पर आयोजित इस सेमीनार का शुभारंभ देवीलाल विवि  कुलपति प्रो विजय कायत ने किया। सेमिनार में मॉरीशस से आये ख्याति प्राप्त हिंदी विशेषज्ञ राज हीरामन (मॉरीशस) व डॉ. आशीष कंधवे व डॉ. हरीश नवल शामिल हुए।

Interview: Dr Vijaya Tomar सीएमके महाविद्यालय की प्रचार्या डॉ विजया तोमर ने बताया कि सेमीनार में देश विदेश से शोधकर्ता भाग ले रहे है।  उन्होंने कहा किसी भी विषय के बारे में ज्ञान वृद्धि के लिए शिक्षण संस्थाओं में राष्ट्रीय व अंतरास्ट्रीय सेमिनार होने जरूरी है। उन्होंने बताया कि इस बार उनके महाविद्यालय में अंतरिष्ट्रीय सेमीनार का आयोजन किया जा रहा है जिसको लेकर प्राध्यपकों व विधार्थियों में उत्साह है।
सेमिनार के वक्ता मॉरीशस से आये ख्याति प्राप्त हिंदी विशेषज्ञ राज हीरामन ने कहा कि केवल मातृभाषा ही अपनी बात पहुंचाने के लिए एक सशक्त माध्यम है। उन्होंने जापान व अन्य कई देशों का उदहारण देते हुए कहा कि आज ये देश अपनी मातृभाषा को प्रयोग करते हुए विकास के क्षेत्र में अग्रणी है। उन्होंने कहा कि भारत में इसकी शुरआत देरी से हुयी है। उन्होंने बताया कि मॉरीशस ऐसा देश जो तीसरी बार विश्व हिंदी कॉन्फ्रेंस आयोजित कर रहा है।
स्पीच -राज हिरामन (मॉरीशस)

Detailed: सी.एम.के.महाविद्यालय में राष्ट्रीय-अन्तर्राष्ट्रीय ज्ञानार्जन का सेतु: मातृभाषा पर अन्तर्राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन सिरसा। सी.एम.के. महाविद्यालय में उच्चतर शिक्षा विभाग पंचकूला द्वारा प्रायोजित एवम् विश्व हिन्दी साहित्य परिषद नई दिल्ली के संयुक्त तत्वाधान में हिन्दी विभाग द्वारा राष्ट्रीय-अन्तर्राष्ट्रीय ज्ञानार्जन का सेतु: मातृभाषा विषय पर एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया। यह आयोजन कालेज प्राचार्या डा. विजया तोमर के कुशल दिशा-निर्देशन व हिन्दी विभाग की अध्यक्षा डा. कामना कौशिक के संयोजन से हुआ। महाविद्यालय सभागार में आयोजित इस अन्तर्राष्ट्रीय संगोष्ठी के उद्घाटन समारोह में चौ. देवीलाल विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर माननीय डा. विजय कायत ने बतौर मुख्यातिथि शिरकत की, जबकि समापन समारोह में अतिरिक्त उपायुक्त सिरसा डा. मुनीष नागपाल ने मुख्यातिथि के रुप में शिरकत की। समारोह में सिरसा एजुकेशन सोसाइटी के अध्यक्ष श्री अरङ्क्षवद बंसल, उपाध्यक्ष श्री भागीरथ गुप्ता, सचिव श्री नौरंग ङ्क्षसह एडवोकेट, मुख्य संरक्षक डा. आर.एस.सांगवान व श्री रमेश मेहता भी मौजूद रहे। समारोह का शुभारंभ मुख्यातिथि व अन्य गणमान्य अतिथियों द्वारा मां सरस्वती की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्जवलन व पुष्पार्षण के साथ हुआ। मुख्यातिथि चौ.देवीलाल विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. विजय कायत व अतिथिगण ने शोध संग्रह राष्ट्रीय अन्तर्राष्ट्रीय ज्ञानार्जन का सेतु: मातृभाषा’  पुस्तक का विमोचन भी किया। इस अवसर पर कालेज प्राचार्या डा. विजया तोमर ने मुख्यातिथि सहित देश-विदेश से आए सभी विद्धान हस्तियों का स्वागत करते हुए कहा कि मुख्यातिथि महोदय, समस्त प्रबुद्धजन व शिक्षा जगत से जुड़ी तमाम हस्तियों का इस समारोह में शिरकत करना महाविद्यालय के लिए बहुत ही गर्व व हर्ष का विषय है। इस अवसर पर माननीय कुलपति प्रो. विजय कायत जी ने कालेज परिवार में पुन: आगमन पर हर्ष व्यक्त करते हुए कहा कि चौ. देवीलाल विश्वविद्यालय सिरसा में अपने अभी तक के 10 महीनें के कार्यकाल के दौरान सी.एम.के. महाविद्यालय को सदैव समस्त शैक्षणिक व अन्य सांस्कृकि गतिविधियों में निरंतर उन्नति करते देखा है और इस प्रकार के वैचारिक विषयों पर राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठियां आयोजित करना अपने आप में बहुत बड़ी बात है। उन्होंने कहा कि हिन्दी अनेक भाषाओं का संगम है और देश-विदेश के परिपेक्ष्य में ज्ञान-विज्ञान, धर्म व मूल्य आदि को जोडऩे में वास्तव में एक सेतु का कार्य करती है। उद्घाटन स्तर के मुख्य वक्ता के रुप में मॉरीशस के लेखक व संपादक श्री राज हीरामन ने विषय पर अपने विचार रखते हुए कहा कि भारत के अलावा हिन्दी भाषा में साहित्य रचना, लेखन व प्रकाशन अन्य देशों की तुलना में मारीशस में बहुत अधिक हो रहा है, क्योंकि हिन्दी अपने आप में एक संपूर्ण व विकास की भाषा है। भारत देश हिन्दी के बिना अधूरा है और वर्तमान समय में आवश्कता है कि नई पीढ़ी इस मातृभाषा को अपनाएं और आने वाले समय में इसका विकास करें। प्रथम तकनीकी सत्र में विषय विशेषज्ञ के रुप में विश्व हिन्दी साहित्य परिषद के चेयरमैन डा. आशीष कंधवे ने मातृभाषा के प्रति निष्ठावान होने की बात कही। साथ ही इसके सरंक्षण व संर्वधन के लिए युवाओं द्वारा अपनी कृति व  संस्कृति को जीवित रखने के लिए मातृभाषा को विकसित करने पर बल दिया। वहीं, अमेरिका संयोजक, अन्तर्राष्ट्रीय हिन्दी समिति नई दिल्ली डा. हरीश नवल ने विषय विशेषज्ञ के रुप में कहा कि विश्व पटल पर 176 देशों में हिन्दी भाषा पढ़ाई जाती है और अमेरिका सहित अन्य देशों में बड़े-बड़े विश्वविद्यालयों से कितने ही शोधार्थी हिन्दी भाषा पर कार्य कर रहे हैं। अत: यह सत्य है कि मातृभाषा देश-विदेश के ज्ञानार्जन काएक सेतु है। इसके पश्चात शोधार्थियों ने प्रस्तुत विषय पर अपने शोध पत्र प्रस्तुत किए। समापन सत्र में बतौर मुख्यातिथि अतिरिक्त उपायुक्त सिरसा डा. मुनीष नागपाल ने अपने संबोधन में कहा कि वर्तमान समय में उपभोक्तावाद व व्यवसायवाद बढ़ रहा है। ऐसे में यदि वास्तव में राष्ट्र का विकास करना है तो सभी क्षेत्रों में ज्ञानार्जन मातृभाषा में ही करना चाहिए। द्वितीय तकनीकी सत्र में सत्रोत वक्ता के रुप में वैश्य कालेज भिवानी के डा. विपिन गुप्ता ने कहा कि हमारी मातृभाषा हिन्दी है और इसमें भावों की प्रधानता है। अत: इसके अनुवादिक रुप को भी समझकर इसे ज्ञानार्जन का सेतु बनाने के लिए तकनीकी शब्दावली भी विकसित करनी होगी। सत्रोत वक्ता डा. हरीश अरोड़ा, पी.जी. डी.ए.वी. कालेज दिल्ली ने कहा कि केवल साहित्य रचना करने से संपूर्ण विश्व पर अपनी मातृभाषा की पहचान नहीं बन सकती। इसके लिए मातृभाषा को मौखिक से लिखित बनाना होगा और इससे सामूहिक संस्कृतिक निर्माण होगा। समापन सत्र में बैल्जियम गैंट विश्वविद्यालय वैस्टर्न यूरोप, भाषा एवम् संस्कृति विभागाध्यक्ष प्रो. रमेशचंद्र शर्मा ने अपने संबोधन में कहा कि यदि मातृभाषा को विश्व भाषा बनाना है तो उसे ङ्क्षचतन मूल्य व दर्शन की दृष्टि से समर्थ बनाना होगा। क्योंकि मातृभाषा संवेदना से जुड़ी है, परंतु ज्ञान, ङ्क्षचतन व दर्शन से। अत: राष्ट्र के पुन:निर्माण के लिए मातृभाषा को शक्तिशाली बनाना होगा। समारोह के अंत में महाविद्यालय प्रबंधन समिति के उपाध्यक्ष श्री भागीरथ गुप्ता व सचिव श्री नौरंग ङ्क्षसह एडवोकेट ने मुख्यातिथि सहित सभी विद्धानों व अतिथिगण का समारोह में पधारने पर आभार प्रकट किया। प्रबंधन समिति के सदस्यों व कालेज प्राचार्या डा. विजया तोमर ने अतिथिगण को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया।